Varsha Ritu Par Nibandh | Latest [09]+ वर्षा ऋतु पर निबंध (2021)

varsha ritu per nibandh

नमस्कार दोस्तों आज की पोस्ट varsha ritu par nibandh में आपका स्वागत है। वर्षा ऋतु हमारे देश में पाए जाने वाली मुख्य ऋतुओ में से एक है। ये भारत  कि चार ऋतुओं में से मेरी सबसे प्रिय ऋतु है। यह गर्मी के मौसम के बाद आती है, जो साल की सबसे गर्म ऋतु होती है। भारत एक ऐसा देश है जिसमें छः ऋतुएँ हैं ग्रीष्म, वर्षा, शिशिर, शरद, हेमन्त और बसन्त। बसन्त को ऋतुओं का राजा कहते हैं। वर्षा ऋतु को ऋतुओं की रानी कहते हैं। इस पोस्ट में हमने बेहतरीन व सबसे नए वर्षा ऋतु निबंध का कलेक्शन तैयार किया है, जो आपको बेहद पसंद आयेगे।


Varsha Ritu Par Nibandh – वर्षा ऋतु पर  निबंध


essay on rainy season in hindi
Varsha Ritu Par Nibandh Image

भारत में मुख्य रूप से वर्षा सावन और भादो माह में होती है यह वह समय होता है जब मानसून सबसे सक्रिय रूप में होता है ग्रीष्म काल की झुलसाती हुई गर्मी से राहत बारिश के कारण ही मिलती है।

गर्मियों के कारण भारत के प्रत्येक प्रांत का तापमान इतना अधिक बढ़ जाता है कि दिन में बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है हर तरफ पानी के लिए त्राहि-त्राहि मच जाती है।

सभी नदी, नालों, तालाबों का पानी सूख जाता है जिसे जीव-जंतुओं का जीवन बहुत कठिन हो जाता है लेकिन जब वर्षा ऋतु का आगमन होता है तो चारों तरफ हरियाली ही हरियाली छा जाती है। ऐसा लगता है मानो बारिश की बूंदों के रूप में धरती पर अमृत की बौछार कर दी गई हो बारिश के कारण ही पृथ्वी पर जीवन संभव है।

वर्षा ऋतु का महत्व

वर्षा ऋतु सभी ऋतु में सबसे अच्छे ऋतु मानी जाती है जब भी वर्षा आती है, तब धरती का कण कण उमंग से प्रफुल्लित हो उठता है जब धरती पर प्रचंड गर्मी के बाद मानसून की पहली बारिश होती है तो धरती से सोंधी सोंधी खुशबू आती है, जिसके आगे दुनिया का सबसे खुशबूदार इत्र भी कम पड़ता है।

हमारा देश गर्म प्रांतीय क्षेत्र में आता है इसलिए यहां पर सबसे अधिक गर्मी पड़ती है, नदियों में पानी का अभाव है इसलिए पानी की उपलब्धता कम है इसीलिए हमारे देश में वर्षा ऋतु का महत्व और भी बढ़ जाता है वर्षा ऋतु जब भी आती है तो सभी के मन को भा जाती है।

हमारा भारत देश के प्रधान देश है इसलिए यहां पर ज्यादातर खेती ही की जाती है और खेती के लिए पानी की आवश्यकता होती है इस आवश्यकता की पूर्ति सावन और भादो माह में आने वाली बारिश ही करती है किसानों के लिए तो यह अमृत के समान है क्योंकि उनकी फसल बारिश पर ही निर्भर करती है।

जब बारिश अच्छी होती है तो देश के हर प्रांत में खेतों में फसल लहरा उठती है चारों तरफ हरियाली ही हरियाली छा जाती है ऐसा लगता है मानो धरती ने हरी चुनरी ओढ़ ली हो।

बारिश के कारण सभी नदी नाले और तालाब पानी से लबालब भर जाते हैं जिसके कारण पृथ्वी पर रहने वाले सभी जीव जंतुओं को मीठा जल पीने को मिलता है।

और धरती का भू-जल स्तर भी बढ़ जाता है जिससे गर्मी का प्रकोप कम हो जाता है और चारों तरफ ठंडी ठंडी हवाएं चलती है जो कि प्रत्येक प्राणी की मन को खुशहाली से ओत-प्रोत कर देती है।

वर्षा के कारण फसल अच्छी होती है इसलिए सभी को खाने के लिए अनाज मिलता है साथ ही किसानों को इससे अच्छी पूंजी भी मिल जाती है।

जिससे उनका जीवन यापन थोड़ा सरल हो जाता है बारिश अच्छी होती है तो देश की प्रगति भी तेजी से होती है वर्तमान में जल की कमी का ज्यादातर भाग मानसून की बारिश से ही पूरा होता है इसलिए बारिश का महत्व हमारे जीवन में अतुल्य है।

निष्कर्ष – हमारे जीवन में सभी ऋतुओं का महत्व है लेकिन सबसे अधिक महत्व वर्षा ऋतु का है जिसके कारण पृथ्वी की संपूर्ण जीवन प्रणाली चलती है लेकिन कभी-कभी अत्यधिक वर्षा के कारण कुछ हानि भी हो जाती है लेकिन इसके महत्व के आगे यह नगण्य है वर्षा हमारी धरती के लिए बहुत आवश्यक है इसलिए में इसके जल को सहेज कर रखना चाहिए और अधिक वर्षा हो इसलिए पेड़ पौधे लगाने चाहिए।

इन्हें भी पढ़ें


Varsha Ritu Nibandh वर्षा ऋतु


rainy season in hindi
Varsha Ritu Ka Chitra

वर्षा ऋतु गर्मी के बार जुलाई और अगस्त के महीने में आती है वर्षा ऋतु बहुत ही सुहाना मौसम होता है इस ऋतु को बहुत सारे लोग पसंद करते हैंए मुझे भी वर्षा ऋतु बहुत ही ज्यादा पसंद है।

वर्षा ऋतु का मौसम

वर्षा ऋतु को बारिश का मौसम भी कहा जाता हैए इस मौसम में चारों तरफ आसमान में बादल ही बादल रहते हैं और पानी की बारिश करते हैं और बहुत से लोगों को बारिश पसंद होता हैए बारिश के मौसम में मेंढक टर्र-टर्र की आवाज करते हैं।

वर्षा ऋतु के लाभ

वर्षा ऋतु के बहुत सारे फायदे हैं इस ऋतु का इंतजार सबसे ज्यादा किसान करते हैं क्योंकि बिना वर्षा के किसानों का फसल होना नामुमकिन है अगर किसानों का फसल नहीं होगा तो पूरे देश में महंगाई बढ़ जाएगी और खाने के अनाज की कमी पड़ जाएगी इसलिए बारिश सबसे ज्यादा जरूरी किसानों के लिए होता है।

बारिश होने से धरती के पानी का स्तर बना रहता है तालाबों में पानी रहता है जिससे खेतों की सिंचाई हो जाती है बारिश होने से आसमान साफ हो जाता है सारे धूल मिट्टी पानी के साथ चिपक कर जमीन पर आ जाते हैं।

गर्मियों के महीने में बहुत से जगहों पर सूखा पड़ जाता है और वहां पर पानी की कमी हो जाती है और जब बारिश होता है तो पानी की कमी पूरी हो जाती हैए बहुत से ऐसे पेड़ पौधे होते हैं जिनको पानी नहीं मिलता है लेकिन जब बारिश होता है तो वह सभी पेड़ पौधे हरे भरे हो जाते हैं और तेजी से बढ़ने लगते हैं और अक्सीजन बनाने लगते हैं।

वर्षा ऋतु की हानि

बारिश के ज्यादातर फायदे ही हैं लेकिन अगर बारिश बहुत ज्यादा हो जाए तो बाढ़ आ जाती है जिससे लोगों को रहने में दिक्कत होती है नदी के किनारे बसे लोग का घर पानी में डूब जाता है कहीं-कहीं पर किसानों के फसल पूरी तरह से पानी में डूब कर खराब हो जाते हैंए और बाढ़ की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

निष्कर्ष – वर्षा ऋतु बहुत ही अच्छा मौसम है जिसका इंतजार लगभग सभी लोग करते हैं इसके आने से मन को शांति मिलती है क्योंकि बहुत से लोगों को बारिश देख कर बहुत ज्यादा अच्छा लगता है बारिश होने से चारों तरफ हरियाली हो जाती है जो देखने में बहुत ही ज्यादा सुंदर लगता है।


Varsha Ritu Nibandh In Hindi – वर्षा ऋतु निबंध


varsha ritu nibandh
Rainy Season In Hindi

तपती और चिलचिलाती हुई गर्मी को दूर करने के लिए वर्षा ऋतु का आगमन हमारे देश में जुलाई में होता है जो सितम्बर तक चलता है। वर्षा ऋतु मनुष्य के साथ पेड़ए पौधों और जीव जगत को एक नया उत्साह दे जाता है।

वर्षा ऋतु में गर्मी के कारण सूखे पड़े नदीए तालाब और महासागर फिर खिल उठते हैं और पेड़ पौधों को नया जीवन मिल जाता है। जब तपती जमीन पर जल की बूंदे गिरती है और फिर कुछ दिन बाद पूरा वातावरण हरा भरा हो जाता है।

किसान वर्ग को वर्षा ऋतु का बेशब्री से इंतजार रहता है। इस ऋतु के आने के पश्चात किसान अपने खेत में नई फसल की पैदावार करते हैं। वर्षा होने के कारण धूल भरी आंधियों से निजात मिल जाती है।

वर्षा ऋतु का महत्व

हमारे जीवन में वर्षा ऋतु का महत्व उतना ही है जितना अन्य ऋतुओं का है। यह ऋतु जब शुरू होती है तो हमें तेज गर्मी से राहत मिलती है और इससे पेड़ पौधों को बहुत फायदा होता है। ऐसा मान सकते हैं कि सभी को एक नया जीवन मिल गया हो।

गर्मी अधिक पड़ने के कारण सभी तालाब, नदियां आदि सूख जाते हैं जिसके कारण वातावरण गर्मी से भर जाता है और सभी को परेशानी होने लग जाती है। जब वर्षा ऋतु आती है तो वर्षा होने से ठंडी हवा चलने लग जाती है और चारों ओर पानी से भरे तालाब, हरे भरे पेड़ पौधे और हरियाली छा जाती है जो सबको उत्साह से भर देती है।

भारत एक कृषि प्रधान देश है। भारत देश की अर्थव्यवस्था कृषि पर ही निर्भर है। इसके लिए वर्षा ऋतु अपना अहम योगदान अदा करती है। वर्षा ऋतु में सभी किसानों के चहरे खिल उठते हैं। सभी किसान खुशी ख़ुशी अपने खेतों में फसल की पैदावार करते हैं और उसे अच्छे दामों में बेचते हैं। जिसके कारण उनकी आमदनी हो जाती है।

वर्षा ऋतु के लाभ

  • इसके कारण हमें चिलचिलाती और कड़कड़ाती धूप से निजात मिलती है।
  • चारों ओर वातावरण हराभरा हो जाता है। पेड़ और पौधे खिल उठते हैं।
  • नदी और तालाब पानी से भर जाते हैं जिसके कारण वातावरण में ठंडी हवा चलने लगती है।

वर्षा ऋतु की हानि

  • वर्षा आने के कारण चारों और कीचड़ ही कीचड़ हो जाता है।
  • वर्षा ऋतु में बाढ़ आने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है।
  • गढ़ों में पानी भर जाने के कारण अधिक संख्या में मच्छर पैदा हो जाते हैं। रोग फैलने का खतरा बढ़ जाता है।

निष्कर्ष – वर्षा ऋतु के आने का सभी लोग इंतजार करते हैं और इसके स्वागत के अपनी तैयारियां शुरू कर देते हैं। वर्षा ऋतु में चारों तरफ हरियाली और आकाश में नीले बादलों में इन्द्रधनुष दिखाई देता है जो सभी में एक नई ऊर्जा का संचार करता है। सुहाने मौसम में पक्षियों की चहचहाने की आवाज सुनने को मिलती है और मोर के पंख फैलाकर झुमने लग जाते हैं। चारों तरफ आनंद और उल्लास छा जाता है।


Essay On Rainy Season In Hindi- वर्षा ऋतु निबंध हिंदी में


10 lines on rainy season
Varsha Ritu Nibandh In Hindi

वर्षा ऋतु शुष्क और नीरस जीवन के लिए कुछ गीलापन डालती है और एकरसता में कुछ विविधता जोड़ती है। बारिश का मौसम भारत में सबसे खूबसूरत मौसमों में से एक माना जाता है। इसके अलावा, कुछ क्षेत्रों में वर्ष के इस समय में सबसे अधिक वर्षा होती है। इसके अलावा, उष्णकटिबंधीय और गैर-उष्णकटिबंधीय दोनों क्षेत्रों में उनकी स्थलाकृतिक स्थिति के अनुसार वर्षा होती है। हालाँकि, कुछ स्थानों पर यह एक महीने तक रहता है लेकिन कुछ स्थानों पर यह लगभग तीन से चार महीने तक चलता है। तो बारिश के मौसम पर इस निबंध में हम बारिश के मौसम के महत्व महीनों और कारणों के बारे में चर्चा करेंगे।

मानसून के महीने

भारतीय उपमहाद्वीप के लोग बारिश के मौसम को मानसून कहते हैं। दुर्भाग्य से हम लंबे समय तक इस मौसम का आनंद नहीं ले सकते हैं मानसून एक अतिथि उपस्थिति देता है और गायब हो जाता है। यह मौसम भारत में लगभग 3 से 4 महीने तक रहता है। इसके अलावा, विभिन्न देशों और विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में वर्षा ऋतु की अवधि निर्धारित नहीं है। कुछ स्थानों पर जैसे उष्णकटिबंधीय वर्षा वनों में वर्ष भर वर्षा होती है जबकि दूसरी ओर सहारा डेज़र्ट जैसी जगहों पर बहुत कम वर्षा होती है

वर्षा ऋतु पर आर्थिक निर्भरता

भारत जैसे देशों के लिए जहां बड़ी संख्या में आबादी कृषि पर निर्भर करती है बरसात का मौसम उल्लेखनीय भूमिका निभाता है। साथ हीए भारत में कृषि क्षेत्र सकल घरेलू उत्पाद सकल घरेलू उत्पादद्ध में लगभग 20% योगदान देता है। इसके अलावा, यह देश के 500 मिलियन लोगों से ऊपर के कर्मचारी हैं। इसलिए, भारत जैसे देशों की आर्थिक स्थिति के लिए मानसून बहुत आवश्यक है। इसके अलावा उपज की फसल बारिश की गुणवत्ता पर काफी हद तक निर्भर करती है। इसके अलावा, एक समृद्ध मानसून अर्थव्यवस्था को अच्छी उपज देगा और कमजोर मानसून अकाल और सूखे का कारण बन सकता है।

घटना के पीछे का कारण

हालांकि बारिश का मौसम एक आवधिक घटना है जो बादलों और सी को वहन करने वाली हवा के प्रवाह के परिवर्तन के कारण होता है। जब दिन के दौरान पृथ्वी की सतह का तापमान बढ़ता है तो आसपास की हवा ऊपर उठती है और कम दबाव का क्षेत्र बनता है। यह महासागरों से भूमि की ओर नमी भरी हवाओं को धकेलता है। और जब यह नमी और बादल भूमि पर पहुंचते हैं तो वे बारिश लाते हैं। इन सबसे ऊपर, यह चक्र क्षेत्र में कुछ समय तक जारी रहता है और मौसम को वर्षा ऋतु कहा जाता है।

मौसम का कुछ बुनियादी महत्व

भूजल स्तर और प्राकृतिक संसाधनों को बनाए रखने के लिए बारिश का मौसम महत्वपूर्ण है। इसके अलावा सभी जीवित और गैर-जीवित चीजें प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्राकृतिक पानी पर निर्भर करती हैं और बारिश का मौसम उस पानी को फिर से भर देता है ताकि यह अगले सीजन तक बरकरार रह सके। मानसून के दौरान लगातार बारिश हमें वर्षा जल संचयन के विभिन्न तरीकों से इस अपवाह जल को इकट्ठा करने का मौका प्रदान करती है। इसके अलावा या तो हम अलग-अलग उद्देश्यों के लिए या भूजल रिचार्ज करने के लिए इस सहेजे गए पानी का उपयोग कर सकते हैं।

मौसम की सुंदरता

वर्षा ऋतु वर्ष का सबसे आवश्यक और निस्संदेह सुखदायक मौसम है। साथ ही ऐसे देशों के लिए जो कृषि को अर्थव्यवस्था की रीढ़ मानते हैं यह किसी भी अन्य भौतिक वस्तु की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। इसके अलावाए मौसम ग्रह पर जीवन को पुनर्जीवित करने वाले मीठे पानी को फिर से भरने में मदद करता है। इसके अलावा यह पृथ्वी पर सभी जीवन रूपों के लिए महत्वपूर्ण है चाहे बड़ा हो या छोटा। कारण बारिश से ताजे पानी की बड़ी मात्रा में आपूर्ति होती है। इन सबसे ऊपर, अगर बारिश नहीं होगी तो विभिन्न जनसांख्यिकी के कई हरे क्षेत्र शुष्क और बंजर भूमि में बदल जाएंगे।

निष्कर्ष – बारिश का मौसम जीवन में कुछ नयापन लाता है। यह हमारे देश की जलवायु की एकरसता को तोड़ देता है। चाहे पानी से भरी सड़क है य अचानक से स्कूल में बरसात के दिनए हर कोई अपने नियमित जीवन में इस विविधता का आनंद लेता है।


Varsha Ritu Essay In Hindi वर्षा ऋतु हिंदी में


hindi essay on varsha ritu for class 5
Varsha Ritu Par Nibandh Hindi

भारत के सभी ऋतु में वर्षा ऋतु एक अनुपम ऋतु है। यह हर साल गर्मी के मौसम के बाद जुलाई से शुरू होकर सितंबर महीने तक रहती है। गर्मी के मौसम में तापमान अधिक होने के कारण जैसे महासागर नदी आदि भाप के रूप में बादल बन जाते हैं और बादल आपस में घर्षण करते हैं। साथ ही इससे बिजली गिरती है और बारिश होती है। बड़े-बड़े कवियों के द्वारा वर्षा ऋतु पर अच्छी-अच्छी कविताएं भी लिखी गई है।

वर्षा ऋतु का महत्व

यह ऋतु संसार को जीवन देती हैए प्यासे को पानी देती हैए और मां की तरह सभी पृथ्वी के जीवों का पालन पोषण करती है। भारत में ग्रीष्म ऋतु के ठीक बाद वर्षा ऋतु का आगमन होता है। इसके प्रभाव से प्रकृति लहलाह उड़ती है

वर्षा ऋतु के आने से सूखे पत्तियां भी लहलहा उड़ती है। भिन्न-भिन्न प्रकार की चिड़िया अपनी मधुर ध्वनि से वनों की शोभा को बढ़ाते हैं। तालाब के किनारे मेंढक टर्र-टर्र करने लगते हैं। दुबली पतली टहनियां बढ़ने लगती हैं और उन पर छोटी पत्तियां निकलने लगते हैं।

जंगलों में रहने वाले मोर पक्षी खुशी मे नाच उठते हैं। सारी प्रकृति नया रूप धारण करके वर्षा ऋतु का स्वागत करते है। वर्षा ऋतु के आने से ऐसा लगता है कि किसी ने पूरे धरती में हरी चादर बिछा दी है। खेत-खलिहानए बाग-बगीचे की हरियाली का आनंद लोग भरपूर लेते हैं। वर्षा के स्वागत में इंद्र भगवान की पूजा की जाती है।

कदम वृक्ष के डालो में बच्चे झूले लगाकर झूला झूलती हैं और लोग अनेक प्रकार के गीत गाते है। आकाश काले बादल से ढक जाता है। जब वर्षा की नन्हीं बूंदे छोटे बड़े पेड़ों के पत्तियों पर पड़ती है तो ऐसा लगता है मानो मोती झड़ रहे हो। बारिश की बूंदें जैसे ही पहली बार मिट्टी पर पड़ते हैं तो मिट्टी की मानमोहल मीठी सुगंध हर जगह फ़ाइल जाती है। वर्षा ऋतु के समय हवा में शीतलता रहती है।

गांव के किसान झूम उड़ते हैं और उनके होठों में मुस्कुराहट दौड़ आती है। किसान अपने खेतों मे बुआई और सिंचाई की शुरुवात करने के लिए तैयारी करने लगते हैं। इस प्रकार से वर्षा ऋतु प्रकृति को एक नए सुंदर सांचे में ढाल देती है। सभी ऋतुओं के कुछ लाभ और हानी भी होते हैं जिनके विषय मे हमने आगे वर्णन किया है।

वर्षा ऋतु के लाभ

  • बारिश का मौसम सबको अच्छा लगता है क्योंकि यह तपती गर्मी से हमें राहत दिलाती है।
  • वर्षा जल से भूजल का स्तर ऊपर आता है जिससे मनुष्य कुओं, नदियों, और अन्य जल स्रोतों से पीने का जल प्राप्त कर पाता है।
  • वर्षा ऋतु संसार के लिए नए जीवन का वरदान लेकर आती है। सभी नव जीवन प्राप्त कर असीम आनंद लेते हैं।
  • वर्षा ऋतु के कारण ही मनुष्य को सभी प्रकार के अनाजए फलए और सब्जियाँ मिल पाते हैं।
  • वर्षा से ही सभी जंगल के जीवों को पीने का पानी और खाद्य मिल पाता है।
  • किसान वर्षा माह के दौरान खेती करते हैं और विभिन्न प्रकार के अन्न लगते हैं जिसके कारण ही हम चावल, गेहूं, बाज़रा, ज्वार जैसे कई अनाज खा पाते हैं।
  • वर्षा ऋतु से प्रकृति को हरियाली मिलती है।
  • वर्षा ऋतु के कारण ही वायु मे स्थित ज्यादातर कण और प्रदूषण कम हो जाते है।

वर्षा ऋतु की हानि

  • जब बारिश होती है तो सड़कें उद्यान तथा खेल के मैदान आदि जलमग्न तथा कीचड़ युक्त हो जाते हैं। सूरज की रोशनी की कमी से बड़े स्तरों पर संक्रमित बीमारियों के फैलने का खतरा बढ़ जाता है।
  • भारी बारिश के कारण बाढ़ की संभावना बढ़ जाती है। कई क्षेत्रों मे तो प्रतिवर्ष बाढ़ के कारण लोगों को कई प्रकार की मुश्किलों का सामना करना पड़ जाता है। ऐसे मे लोगों के महंगे सामग्री, पशु-पक्षी, घर और जान पर भी भी इसका खतरा रहता है।
  • बहुत बारिश के कारण खेत डूब जाते हैं और उसमें लगी फसल भी नष्ट हो जाती है। शुरुवात मे तेज़ आंधी तूफान में बहुत सारे घर भी जाते हैं और जन धन की हानि होती है।
  • तेज बारिश के कारण हमें यातायात में भी एक स्थान से दूसरे स्थान जाने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वर्षा ऋतु मे ज्यादातर लोगों को सर्दी, खासी जुखाम जैसे वाइरल बुखार का सामना करना पड़ता है।

वर्षा ऋतु पर लाइन

  • ग्रीष्म ऋतु के गर्मी के कारण वर्षा ऋतु का लोगों को बेसब्री से इंतजार रहता है।
  • वर्षा ऋतु के आने से हर तरफ हरियाली ही हरियाली दिखाई देती है ऐसा लगता है मानो प्रकृति को हरे रंग के चादर से ढक दिया गया हो।
  • वर्षा ऋतु के आने से पशु पक्षी सब कोई खुश हो जाते हैं क्योंकि उनको खाने के लिए हरि हरि घास और पत्तियां मिलती है।
  • वर्षा ऋतु के आने से किसानों के चेहरे में रौनक का जाती है।
  • वर्षा ऋतु के समय हवाएं शीतल होती हैं। तथा यह भारत में बहुत सारी जगह पर पानी की परेशानी को दूर करता है।
  • वर्षा का मौसम सबसे अच्छा लगता है क्योंकि यहां हमें तेज गर्मी से राहत दिलाती है।
  • वर्षा हमारे जीवन में बहुत ही उपयोगी है। इसी कारण इसे सभी ऋतुओं में ऊंचा स्थान दिया गया है।
  • वर्षा ऋतु के आगमन से पेड़-पौधे में सूखी पत्तियां धड़का नई पत्तियां आना शुरू हो जाती है।
  • वर्षा ऋतु एक बहुत ही सुहाना ऋतु है।
  • वर्षा ऋतु हमें गर्मी से ही राहत नहीं बल्कि खेती के लिए भी एक वरदान है।

निष्कर्ष – वर्षा ऋतु का भी अन्य ऋतुओं के जैसा ही महत्वपूर्ण स्थान है। हलकी वर्षा ऋतु को ज़्यादातर लोग पसंद करते हैं। क्योंकि इस ऋतु मे न ज्यादा गर्मी लगता है और न ज्यादा सर्दी। मुझे तो वर्षा ऋतु बहुत पसंद है आप अपने सुझाव कमेन्ट के माध्यम से जरूर भेजें। आशा करते हैं आपको वर्षा ऋतु पर निबंध पसंद आया होगा। धन्यवाद।

(Source : Suvichar Kosh)

हमारी पोस्ट को पढने के लिए आपका धन्यवाद्। आशा करते है, हमारे varsha ritu par nibandh आपको बेहद पसंद आये होंगे। आप इन्हे सोशल मीडिया पर शेयर कर सकते है। आपको अगर हमारे निबंध अच्छे लगे हो तो आप कमेंट करके जरूर बताये | और इससे सम्बन्धित कुछ भी सुझाव अगर आप हमें देना चाहते हो तो हमें कमेंट बॉक्स मे कमेंट करके दे सकते है । और आप हमें FacebookInstagaram और Pinterest पर भी फॉलो कर सकते है।

Scroll to Top